Breaking News: सातवें राउंड की बैठक खत्म, नहीं बनी बात | Farmers Protest | Latest Update | Farm Law



सरकार और किसानों के बीच कृषि कानून को लेकर गतिरोध अभी भी जारी है, सातवें राउंड की बैठक के बाद कोई रास्ता नहीं निकल …

Related Posts

35 thoughts on “Breaking News: सातवें राउंड की बैठक खत्म, नहीं बनी बात | Farmers Protest | Latest Update | Farm Law

  1. बीजेपी सरकार किसान भाई के साथ छल-कपट करेंगी और आगे भी करती रहेगी । किसान भाई की मौत को नहीं भूलेंगे, नहीं भूलेंगे ! अगले चुनाव तक हमलोग बीजेपी को नही…….

  2. PLEASE SUPPORT INDIAN FARMERS IN THEIR PEACEFUL PROTEST AGAINST CORRUPT MODI GOVERNMENT
    MODI GOVERNMENT IS HELPING HIS CORPORATE BUDDIES IN THE NAME OF REFORMS

  3. कानून वापस नहीं लेना चाहिए हजारो विरोध कर रहे तो करोडो समर्थन में है कल मई पंजाब में ही था किसान कम कांग्रेसी ज्यादा दिख रहे यह केवल राजनीति हो रही ताकि देश मोदी राज में तरक्की न कर जाए सरकार सख्त रुख अपनाये जब बात ही नहीं करनी तो विरोध कैसा

  4. एडिटर महोदय! नमस्कार!मेरे तरफ से यह सुझाव है कि सरकार और किसानों, विरोधी पार्टियों पर गतिरोध समाप्त हो जायेगा।सरकार चाहे तो , विरोधी पार्टियों से और सभी किसान संगठनों से हस्ताक्षर कराये कि भविष्य में यह बिल कभी संसद में विरोधी पार्टियों के तरफ के तरफ से और किसान संगठनों के तरफ से संसद में पेस नही किया जायेगा ,इसकी कापी सुप्रिम कोर्ट में दाखिल किया जाय। और तभी यह बिल वापस लिया जाय।धन्यवाद!

  5. इसमें इस आंदोलन में किसान कम करोड़पति ज्यादा है सामने मुखौटा किसान का पीछे वामपंथी दल
    वह कौन सा आंदोलन जिसमें कोई मांग ही ना हो

  6. किसान आंदोलन देश विरोधी हो चुका है यह सरकार को झुकाने के लिए प्रयास कर रहा है जबकि सरकार किसानों के हित में काम कर रही है जय मोदी सरकार

  7. yaar (anchoron) tum desh ko develop bana chahtey ho yaa gulaam..itna kamakay kaha lekeyjao gey, sab yahee rahjana hai.. kuch to sach ka saath do..

  8. सरकार को एक कमिटी बनानी चाहिए . ओर किसान भाई भी उसमे सहयोग करना चाहिए

  9. जय ग्रामीण सहकारिता विभाग नमः शिवाय मंत्र मोदी जिन्दाबाद ईश्वरीय वरदान भगवान

  10. लोग कहते हैं बेटी को मार डालोगे,तो बहू कहाँ से पाओगे?
    जरा सोचो किसान को मार डालोगे, तो रोटी कहाँ से लाओगे?

  11. कृषि कानून हमे चाहिए. किसानों के हित में जारी किया गया कृषि कानून, किसानों के आय दुगनी करने में कोई शक नहीं. अगर ऐसे कानून अब नहीं लागू किया तो, किसानों के अगले पीढी किसान वृति से मुकर कर नौकरी ढूंढना शुरू कर सकते. तब 136 करोड़ से ज्यादा आबादी के पेठ कैसे भरे?. अब 11 से 12 करोड़ किसान खेती करते हैं. यानी सिर्फ 10% से कम. स्वतंत्रता पूर्व और स्वतंत्रता का आस पास 60% से ज्यादा आबादी किसानी काम करते थे. यह घटते घटते 10% से कम हो गया है. और घटा तो भूखे मरना पड़ेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *